घोसी समाज की गायों के दूध के बने रसगुल्ले दुनिया में मशहूर हैं . बाबू भाई

घोसी समाज के यहां से मिलने वाले दूध और उस से बन ने वाले रसगुल्ला पूरी दुनिया में मशहूर हैं
घोसी समाज बहुत बड़ा समाज है और इनके पास हज़ारों गाएं हैं जो कि अलग अलग नस्लों की हैं ए घोसी समाज के लोगों को अलग अलग जगहों पर अलग अलग नामों से पुकारा जाता है। कहीं गुजर तो कहीं घोसी और कहीं कुछ और नाम से पुकारा जाता है।
घोसी समाज के जाने माने दूध व्यापारी और गाय पालक बाबू भाई जो कि अलग और नई नसल की गायों को रखते हैं जिनका कहना है कि गूजरों के पास देसी, अमेरिकन , जर्सी, होस्टन, राठी गाय हर वक़्त मिलती हैं।
बाबू भाई का कहना है कि रोज़ लाखों टन दूध हमारे यहां से बाज़ार में जाता है, जिस से कई क़िस्मों के दूध से आइटम बनते हैं जो कि पब्लिक में पसंद किये जाते हैं , इन में दूध से बने हुए रसगुल्ले देश ही नहीं दुनिया में मशहूर हैं।
बाबू भाई का यह भी कहना है कि राजस्थान और दूसरे प्रदेशों में भी गुजर यानि घोसी समाज दूध का व्यापार सब से ज़ियादा ,अच्छा और सही तरीके से दूध का काम कर के अपने परिवार को पाल रहे हैं।

सिंधी सिपाही समाज की एक नई स्मारिका जल्दी पब्लिश की जाएगी

आज दिनांक 26 जनवरी 2021 को धोबी तलाई में सिंधी सिपाही समाज की एक नई स्मारिका पब्लिश करने बाबत एक महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में सिंधी सिपाही समाज में जागरुकता पैदा करने और समाज को जोड़ने के लिए एक नई स्मारिका तैयार करने का फैसला लिया गया है।
समाज की इस से पहले भी एक सामाजिक स्मारिका पब्लिश हुई थी मगर उस को लम्बा समय बीत गया है। आज समाज में एकजुटता की आवश्यकता है, बिना एकता के कोई समाज विकास नहीं कर सकता है।
इस बैठक में जहां स्मारिका पब्लिश करने पर ज़ोर दिया गया वहीं समाज में पढ़ने वाले बच्चों में अच्छे अंक लाने वालों को सम्मानित किया जाएगा। इसी तरह से समाज में बहुत सी प्रतिभाएं हैं विभिन्न क्षेत्रों में उनकी जानकारी भी इस स्मारिका में शामिल की जाएगी और स्मारिका की शोभा बढ़ाने बाबत ज़रुरत के अनुसार इस में समाज सुधार के लिए दानिष्वरों से उनके विचारों को आलेखों की शक्ल में छापे जाएंगे।
इस बैठक में तैय किया गया है कि आगामी बैठक जल्दी ही इतवार तक रखने की मन्शा ज़ाहिर की गई है। आज की इस बैठक में मास्टर मुइनुद्दीन जी, हाजी अब्दुर्रहमान पंवार, मक़बूल अहमद पड़िहार, काॅमरेड अब्दुर्रहमान कोहरी, कुंवर नियाज़ मुहम्मद पत्रकार एवं एडवाकेट, मुहम्मद असलम एडवोकेट, मास्टर मुहम्मद सद्दीक़ पड़िहार और इदरीस अहमद जोईया कर्मचारी लीडर शामिल हुए और सभी ने समाज सुधार और तरक़्क़ी के लिए अपने-अपने विचार रखे जो कि बहुत ही सराहनीय हैं।

बीकानेर में ए. आई. आर. एफ का धरना प्रदर्शन

ए. आई. आर. एफ के आह्वान पर पूरे देश मे चल रहे रेल कर्मचारियों के 01 जनवरी से 15 जनवरी तक सघन अभियान पखवाड़ा के नोंवे दिन आज कॉमरेड अनिल व्यास जोनल प्रेसिडेंट नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्प्लॉइज यूनियन के नेतृत्व मे भारी संख्या में रेल कर्मचारियों ने मण्डल चिकित्सालय लालगढ़ मे प्रदर्शन किया ।

आज पूरे 8 दिन निरंतर मण्डल के विभिन्न स्टेशनों व उपमंडलों मे प्रदर्शनों का क्रमबद्ध होने के बावजूद आज पुनः रेल कर्मचारी रेलवे हॉस्पिटल लालगढ़ पहुँच कर प्रदर्शन को सफल बनाया
कॉमरेड अनिल व्यास जोनल प्रेसिडेंट ने वहाँ मौजूद सभी रेलकर्मीयों को अपने उद्बोधन में कहा कि जिस तरह पूरे देश में एन.पी.एस. को लेकर देश के समस्त कर्मचारियों मे भारी विरोध है।

सरकार ने इस पर कोई विचार नहीं किया तो कर्मचारी शीघ्र ही ए. आई. आर. एफ के नेतृत्व मे एक बड़ा विरोध प्रदर्शन करेगे, सरकार जिस तरह कोविड की आड़ मे ट्रेनों को स्पेशल ट्रेनों के नाम से चला कर आम जनता की सुविधाओं को अनदेखा कर रही है और पूंजीपतियों के हाथ मे रेल संचालन देने का काम कर रही है इसे रेलकर्मीयों में भारी रोष है ।

देश के उद्योगपतियों के हाथ रेल अगर जाती है तो देश के लिए बड़ा हानिकारक है। यह एक आम आदमी का सबसे सुलभ साधन है। सरकार के द्वारा सभी मार्ग आवागमन के लिए खुल गए है परन्तु रेल का नियमित संचालन नहीं कर रही है। इसे जल्द चालू करें। रेल कर्मचारी पूर्व मे भी कोविड आपदा मे भी लगतार सेवा दे कर गुड्स ट्रेन के संचालन मे वर्द्धि की है। सभी रेल साथी बधाई के पात्र है।
कॉम अनिल व्यास जोनल अध्यक्ष ने आज कर्मचारियों की मंडल चिकित्सालय के अधीन लबित मांगो के लिए मुख्य चिकित्सा अंधीक्षक लालगढ से बात की ओर मेडिसिन के सम्बंद एवं लंबे समय से गमबीर बीमारी से त्रस्त कर्मचारियों का मेडिकल सुविधा एवं अन्य कार्यवाही के सम्बद्ध मे बात की ओर इसे जल्द पूरा करने को कहा अन्यथा आगमी दिनों मे मांगो को पूरा नही किया तो रेल चिकित्सालय के आगे धरना ओर प्रदर्शन को किया जाएगा

जिसकी समस्त जवादरी रेल प्रशासन की होगी पूर्व मे जोनल अध्यक्ष ने समस्त चिकित्सालय मे निरक्षण किया था जब कर्मचारियों ने अपनी अस्पताल मे हो रही परेशानियों से अवगत करवाया था।
कॉम गणेश वासिष्ठ शाखा सचिव लालगढ ने प्रदर्शन मे आये सभी युवा को सम्बोधन मे सरकार को चेताया कि रेल निजीकरण का अगर कोई भी संचालन बीकानेर मंडल से हुआ तो सभी रेलकर्मी इस के लिए बड़ा विरोध के लिए तैयार है और हम हर हाल मे इसका विरोध करेगे।

पूर्व मे बाद हुए डी.ए. को फ्रीज को पुनः बहाल करें ओर युवा का भविष्य ओ.पी.एस को भी पुनः लागू करें
इस प्रदर्शन मे कॉम दिनेश सिंह, कॉम मुस्ताक अली, विजय श्रीमाली, रामहंस मीना , धर्मेंद्र , पवन कुमार, सेवानंद, प्रदीप चौधरी , संजीव मालिक अल्ताफ़ खान, संजय हर्ष, श्रीराम , राजेन्द्र चंदेला , कुलदीप , मोहम्मद आरिफ, अमरनाथ, सुशील, मनोज रावत सेवानिवृत्त मोहम्मद हसन, लालचंद इनखिया, और बहुत से साथी कर्मचारी मौजूद रहे

भारत कतर से आर्थिक और सुरक्षा सहयोग चाहता है

दोहा-विदेश मंत्री एस जे शंकर ने कतर के अमीर शेख तमीम बिन हमद अल थानी से मुलाकात की और दोनों देशों के बीच आर्थिक और सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की। जय शंकर दो दिवसीय यात्रा पर रविवार को दोहा पहुंचे, जो विदेश मंत्री के रूप में खाड़ी देश के लिए पहली बार आए।

जय शंकर ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से एक पत्र शेख तमीम को सौंपा। उन्होंने आज ट्वीट किया, मैं कतर के अमीर हिज हाइनेस तमीम बिन हमद से मिला। उन्होंने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के व्यक्तिगत पत्र को उन्हें सौंप दिया।

भारतीय समुदाय के लिए उनकी गहरी भावनाओं की सराहना की। हम अपने रिश्ते को एक नए स्तर पर ले जाने के उनके दृष्टिकोण से प्रेरित हैं। जय शंकर ने कतर के पिता शेख हमद बिन खलीफा अल थानी से भी मुलाकात की, जिन्होंने 2013 में अपने बेटे को अमीरात सौंप दिया था।

एसजे शंकर ने प्रधानमंत्री खालिद बिन खलीफा बिन अब्दुल अजीज अल थानी से भी मुलाकात की। उन्होंने 19 प्रकोपों के दौरान उनकी देखभाल करने के लिए कतर में भारतीय समुदाय को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि कतरी नेतृत्व के साथ आर्थिक सहयोग और सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा की गई है।

आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि 10 दिन बढ़ी,जी एस टी रिटर्न दाखिल करने की तारीख भी 28 फरवरी तक बढ़ी

सरकार ने आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि 10 दिन बढ़ाते हुये इसको अब 10 जनवरी 2021 कर दिया है। इसके साथ ही जीएसटी का वार्षिक रिटर्न भरने के साथ ही कई अन्य तरह के रिटर्न भरने की भी तिथि बढ़ायी गयी है।

आयकर विभाग ने आज यहां जारी बयान में यह जानकारी देते हुये कहा कि कोरोना काल के मद्देनजर विभिन्न तरह के नियामक अनुपालनों के लिए करदाताओं को राहत दी जा रही है। आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 31 दिसंबर की गयी थी जिसे अब बढ़ाकर 10 जनवरी 2021 कर दिया गया है।

सरकार ने इसके साथ ही वस्तु एवं सेवाकर कानून की धारा 44 के तहत वार्षिक रिटर्न भरने की अंतिम तिथि को 31 दिसंबर 2020 से बढ़ाकर 28 फरवरी 2021 कर दिया है।


आयकर विभाग ने कहा कि करदाताओं द्वारा की जा रही सामनाओं के मद्देनजर आयकर रिटर्न, कर ऑडिट रिपोर्ट विवाद से विश्वास स्कीम के तहत घोषणा करने की अवधि बढ़ायी गयी है।

अब विवाद से विश्वास स्कीम की अंतिम तिथि 31 दिसंबर से बढ़ाकर 31 जनवरी 2021 कर दी गयी है।

सरकार को किसानों की आवाज़ सुननी चाहिए और तीन क़ानूनों को वापस लेना चाहिए- प्रियंका गांधी

नई दिल्ली-कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने किसानों के आंदोलन के मद्देनजर केंद्र सरकार और भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार को अन्न दाताओं की बात सुननी चाहिए और तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए।

पार्टी के स्थापना दिवस पर एक झंडारोहण समारोह में भाग लेने के बाद प्रियंका ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार को किसानों की आवाज़ सुननी चाहिए। यह कहना बिल्कुल ग़लत है कि यह आंदोलन एक राजनीतिक साजिश है। किसानों के लिए वे जिस तरह के शब्द इस्तेमाल कर रहे हैं, वह पाप है। किसान का बेटा सीमा पर खड़ा है। किसान देश का अन्नदाता है।

उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार किसानों के प्रति जवाबदेह है। किसानों से बात करो। उनकी आवाज़ सुनी जानी चाहिए और कानूनों को वापस लेना चाहिए।

इससे पहले भाजपा अध्यक्ष जेपी नंड्डा ने रविवार को लोकसभा में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण का एक पुराना वीडियो साझा किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ हैं। वे आंदोलन का राजनीतिकरण कर रहे हैं।

एक मिनट सात सेकेंड के इस वीडियो में राहुल गांधी किसानों को बिचौलियों से बचाने के लिए उपज को सीधे कारखानों को बेचने की वकालत करते नजर आ रहे हैं।

सऊदी अरब ने हज यात्रियों के लिए स्मार्ट कार्ड लॉन्च किया

रियाद एयूएस काबा मुसलमानों का सबसे पवित्र स्थान है। हर साल 2 लाख से अधिक लोग हज के लिए मक्का में इकट्ठा होते हैं। सऊदी सरकार के लिए इतनी बड़ी संख्या में सुविधाएं प्रदान करना और हज की रस्मों को निभाना एक बड़ी चुनौती है, लेकिन सऊदी सरकार की बेहतरीन व्यवस्थाओं की बदौलत, हज के सभी चरण बेहतरीन तरीके से पूरे होते हैं।

हज के सऊदी मंत्रालय ने हज यात्रियों के लिए एक अद्भुत सुविधा शुरू की है जो उन्हें बहुत परेशानी से बचाएगा। अल अरबिया न्यूज के अनुसार, हज और उमराह के सऊदी मंत्रालय ने हज प्लेटफार्म और हज स्मार्ट कार्ड लॉन्च किया है।

इसमें प्रत्येक यात्री को अपनी व्यक्तिगत, चिकित्सा और आवासीय जानकारी के साथ एक स्मार्ट आईडी कार्ड जारी करना शामिल है।

इस कार्ड से यात्रियों को उनके निवास स्थान तक पहुंचने और मार्गदर्शन प्राप्त करने में आसानी होगी। वे अनावश्यक यात्रा से बच सकते हैं और वे समय की बचत करेंगे।

स्मार्ट कार्ड नियर फील्ड कम्युनिकेशन एन.एफ.सी. तकनीक के साथ काम करता है। यह कार्ड स्व-सेवा के माध्यम से पवित्र स्थानों में फैले स्थानों के नामों को पढ़ने में मदद करेगा।

मक्का स्मार्ट कल्चरल सेंटर द्वारा शुरू किए गए सऊदी अरब के सुधार और विकास कार्यक्रम विज़न 2030 के हिस्से के रूप में हज स्मार्ट कार्ड लॉन्च किया गया था। यह कार्ड हज यात्रियों के लिए एक नई सुविधा है।

इस साल 1442 के हज के अवसर पर स्मार्ट हज कार्ड का उपयोग किया जाएगा। प्रयोग के तौर पर, हज के अवसर पर 50,000 स्मार्ट कार्ड जारी किए जाएंगे।

ये मंच और हज स्मार्ट कार्ड मक्का सांस्कृतिक केंद्र की हालिया बैठक के अवसर पर जारी किए गए थे। इस मंच का उद्देश्य हज और उमराह संचालन और सेवाओं को जोड़ना है

कर्नाटक जमात-ए-इस्लामी भारत ने वक्फ संपत्तियों की सुरक्षा के लिए बड़ा कदम उठाया है

बैंगलोर। वक्फ संपत्तियों के संरक्षण और विकास को सुनिश्चित करने के लिए कर्नाटक में एक नया निकाय स्थापित किया गया है। पहली बार, जमात-ए-इस्लामी भारत ने वक्फ पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक अलग समिति बनाई है।

इस नई समिति का नाम कर्नाटक अवक़ाफ रक्षा समिति है। इस समिति की पहली कार्यशाला 21 दिसंबर, 2020 को गुलबर्गा में आयोजित की गई थी। कार्यशाला में कर्नाटक राज्य वक्फ बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुहम्मद यूसुफ, विशेष अधिकारी मुजीबुल्लाह जफारी ने भाग लिया और जमात-ए-इस्लामी इंडिया के प्रयासों को तात्कालिकता का विषय करार दिया।


बैंगलोर में जमात-ए-इस्लामी भारत के सहायक अमीर मौलाना मुहम्मद यूसुफ़ कानी ने कहा कि कर्नाटक अवक़ाफ रक्षा समिति का उद्देश्य पूरे राज्य में वक्फ संपत्तियों की रक्षा करना है। अवैध कब्ज़ेदारों की वक्फ संपत्तियों को छुड़ाने के लिए कदम उठाएं।

इन गुणों को विकसित करने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए। मौलाना मोहम्मद यूसुफ कानि ने कहा कि समिति पहले वक्फ के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करेगी। वक्फ क्या है- इस्लाम में वक्फ का क्या महत्व है- समिति का पहला उद्देश्य वक्फ के उपयोग, वक्फ की आवश्यकता, चिकित्सक के ज्ञान, ट्रस्टी की जिम्मेदारी के साथ जनता को परिचित कराना होगा।


मौलाना मोहम्मद यूसुफ कानि ने कहा कि भले ही जमात-ए-इस्लामी भारत के तत्वावधान में अवक़ाफ रक्षा समिति का गठन किया गया है, लेकिन इसमें सभी संप्रदायों, विचारक दलों और राष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधियों और सदस्यों को शामिल किया जा सकता है। अब तक राज्य भर में 300 से अधिक लोग समिति में शामिल हो चुके हैं। उनमें से केवल 15ः जमात-ए-इस्लामी भारत के हैं।

अहल-ए-सुन्नत वल-जमाअत, जमात-ए-अहल-ए-हदीस, जमीयत-ए-उलेमा-ए-हिंद और इस तरह सभी संप्रदायों और राष्ट्रीय संगठनों के सदस्य इस समिति में शामिल हो रहे हैं संगठन ने 20 जिलों में शाखाएं स्थापित की हैं। शेष 10 जिलों में, बंदोबस्ती रक्षा समिति का गठन जल्द किया जाएगा।

मौलाना मुहम्मद यूसुफ कानि ने कहा कि अवक़ाफ रक्षा समिति का उद्देश्य सरकार या वक्फ बोर्ड के साथ झगड़ा करना नहीं था। बल्कि, यह संपन्न संपत्तियों की सुरक्षा के लिए सहायता प्रदान करना है। वक्फ संपत्तियों के विकास के लिए चल रही सरकारी योजनाओं और धन के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि इस नए निकाय के तहत एक कानूनी प्रकोष्ठ भी स्थापित किया गया है।

वक्फ मामलों पर अनुसंधान करने के लिए एक अलग समिति भी बनाई गई है जो सरकार या राज्य वक्फ बोर्ड को वक्फ संपत्तियों का डेटा प्रदान करेगी। मौलाना ने कहा कि संगठित तरीके से काम करने के लिए एक योजना तैयार की गई है।


कलबुर्गी के अलावा, बेदार, रायचूर और यादगीर जिलों के सदस्यों ने कलबुर्गी शहर में आयोजित कार्यशाला में भाग लिया। कार्यशाला में एंडोमेंट प्रॉपर्टीज और हमारी जिम्मेदारियों, इतिहास और एंडॉमेंट्स की वर्तमान स्थिति, एंडोमेंट बोर्ड्स की जिम्मेदारियों, सरकारी योजनाओं जैसे विषयों पर प्रकाश डाला गया।

मौलाना मुहम्मद यूसुफ कानि ने कहा कि इसी तरह की कार्यशालाएं राज्य के अन्य शहरों में भी आयोजित की जाएंगी। ज़फ़रुल्लाह खान सत्तार को समिति का प्रदेश अध्यक्ष और डॉ. समीर अहमद को सचिव के रूप में चुना गया है। मौलाना मुहम्मद यूसुफ कानि ने स्पष्ट किया कि कर्नाटक अवक़ाफ रक्षा समिति राजनीति में भाग नहीं लेगी।

वक्फ बोर्ड या वक्फ सलाहकार समितियां या वक्फ संस्थान राजनीति में भाग नहीं लेंगे। बल्कि, यह स्वतंत्र रूप से वक्फ मुद्दों की पहचान करेगा। सरकार वक्फ संपत्तियों के विकास और संरक्षण के लिए वक्फ समितियों और वक्फ संस्थानों को सुझाव देगी।

वक्फ संपत्तियों के अवैध कब्जे, वक्फ मामलों में भ्रष्टाचार, घोटालों, रिश्वतखोरी के खिलाफ अपनी आवाज़ बुलंद करेगा।

संजय राउत की पत्नी को पूछताछ के लिए ईडी का समनए पी एम सी बैंक घोटाले में पूछताछ के लिए बुलाया

नयी दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिवसेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को पीएमसी बैंक धनशोधन मामले में पूछताछ के लिए 29 दिसम्बर को तलब किया है।

यह जानकारी अधिकारियों ने रविवार को दी। वर्षा राउत को मुंबई में केंद्रीय एजेंसी के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया है। यह उनको पेश होने के लिए जारी तीसरा समन है। इससे पहले वह दो बार स्वास्थ्य आधार पर एजेंसी के समक्ष पेश नहीं हुई हैं।

पूछताछ के लिए उन्हें समन धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत जारी किया गया है। आधिकारिक सूत्रों ने दावा किया कि ईडी वर्षा राउत से उस राशि की रसीद के बारे में पूछताछ करना चाहता है जिसका कथित तौर पर बैंक से गबन किया गया था।

ईडी ने पिछले साल अक्टूबर में पंजाब एण्ड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक में कथित ऋण धोखाधड़ी की जांच के लिए हाउजिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल), उसके प्रमोटर राकेश कुमार वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन, उसके पूर्व अध्यक्ष वी. सिंह और पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के खिलाफ पीएमएलए में एक मामला दर्ज किया था।


एजेंसी ने पीएमसी बैंक को कथित रूप से प्रथम दृष्टया गलत तरीके से 4,355 करोड़ रुपये का नुकसान और खुद को लाभ पहुंचानेके लिए उनके खिलाफ मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा द्वारा दर्ज प्राथमिकी पर संज्ञान लिया था।

राकांपा और कांग्रेस के साथ महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महागठबंधन महा विकास अघाड़ी (एमवीए) की हिस्सा शिवसेना, ने पहले आरोप लगाया था कि केंद्रीय जांच एजेंसियां उन्हें ग़लत तरीके से निशाना बना रही हैं।

हाल ही में शरद पवार की पार्टी राकांपा में शामिल हुए भाजपा के पूर्व नेता एकनाथ खड़से को भी ईडी ने पुणे के भोसरी इलाके में एक भूमि सौदे से जुड़े धनशोधन मामले के संबंध में 30 दिसंबर को पूछताछ के लिए तलब किया है।

बिना ड्राइवर के चलेगी मेट्रो, ऐसी पहली सर्विस को 28 दिसंबर को मोदी दिखाएंगे हरी झंडी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 दिसंबर को देश की पहली पूर्ण.स्वचालित चालकरहित ट्रेन सेवा को दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन पर हरी झंडी दिखा कर रवाना करेंगे। दिल्ली मेट्रो रेल निगम डीएमआरसी ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

दिल्ली मेट्रो के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नई पीढ़ी की इन ट्रेनों का वाणिज्यिक परिचालन एक बड़ी प्रौद्योगिकी उपलब्धि साबित होने वाला है। इन ट्रेनों का परिचालन कार्यक्रम के बाद शुरू होगा।
डीएमआरसी ने एक बयान में कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 37 किलोमीटर लंबी मजेंटा लाइन पर देश की अब तक की पहली पूर्ण.स्वचालित चालकरहित ट्रेन सेवा को हरी झंडी दिखाएंगे और 23 किलोमीटर लंबी एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन नयी दिल्ली से द्वारका सेक्टर 21 तक पर यात्रा के लिए पूरी तरह परिचालन वाले नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड एनसीएमसी को भी जारी करेंगे।

डीएमआरसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दोनों कार्यक्रमों, चालक रहित ट्रेन को हरी झंडी दिखाने और एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर एनसीएमसी की शुरूआत वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से की जाएगी।

उन्होंने कहा, यह पहला मौका होगा जब यात्री दिल्ली मेट्रो के किसी भी मार्ग पर एनसीएमसी का उपयोग कर पाएंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने मार्च 2019 में स्वदेश विकसित एनसीएमसी पेश किया था, ताकि लोग देश भर में मेट्रो और बस सहित विभिन्न प्रकार के परिवहन शुल्क का इसके जरिए भुगतान कर सकें।