Thursday, July 25, 2024
Google search engine
Homeप्रमुखगुरुग्राम से हिरासत में लिया गया मोनू मानेसर, नूंह हिंसा में आया...

गुरुग्राम से हिरासत में लिया गया मोनू मानेसर, नूंह हिंसा में आया था नाम

मोनू मानेसर की तलाश अलवर के नासिर-जुनैद हत्याकांड में राजस्थान पुलिस को भी है। नासिर-जुनैद को कार में जिंदा जला दिया गया था। जानकारी के अनुसार इस मामले में राजस्थान पुलिस ने उसे आरोपित बनाया है। इसी केस के सिलसिले में जब एक बार राजस्थान पुलिस मोनू को गिरफ्तार करने उसके घर पहुंची तो उसे स्थानीय लोगों का विरोध झेलना पड़ा था।

हरियाणा पुलिस ने भिवानी में जिंदा जलाए नासिर-जुनैद हत्याकांड में बड़ी कार्रवाई की है। गौरक्षक मोनू मानेसर को गुरुग्राम से पुलिस ने हिरासत में लिया है। हरियाणा पुलिस अब उसे राजस्थान पुलिस के हवाले कर सकती है। मोनू मानेसर पर भिवानी में जिंदा जलाए नासिर और जुनैद की हत्या का आरोप है।

विश्व हिंदू परिषद द्वारा 31 जुलाई को नूंह में आयोजित की गई जलाभिषेक यात्रा के दौ रान हुई हिंसा के बाद भी इसमें मोनू मानेसर का नाम सामने आया था। कहा गया था कि इस यात्रा से पहले वीडियो जारी कर मोनू मानेसर ने इसमें शामिल होने की बात की थी। इसके साथ ही भड़काऊ बातें भी कहीं थीं जिसके बाद हिंसा भड़की।

मोनू मानेसर को मंगलवार को करीब 12 बजे आईएमटी मानेसर से हरियाणा पुलिस के सीआईए स्टाफ ने पकड़ा है। मोनू को उसके गांव की मार्केट से हिरासत में लिया गया है। गुरुग्राम के अधिकारियों का कहना है कि गुरुग्राम पुलिस ने मोनू को नहीं उठाया है। बल्कि सीआईए स्टाफ ने हिरासत में लिया है।

आपको बता दें कि गौरक्षक मोनू मानेसर भिवानी में जिंदा जलाए नासिर और जुनैद हत्याकांड के बाद आठ महीने से फरार चल रहा था। 16 फरवरी, 2023 को हरियाणा के भिवानी में बोलेरो में जली हालत में दो शव मिले थे।

जांच के बाद सामने आया था कि दोनों शव राजस्थान के गोपालगढ़ के जुनैद और नासिर के थे। हरियाणा के कई गो-रक्षकों पर नासिर और जुनैद की हत्या का आरोप लगा था। मोनू मानेसर उर्फ मोहित यादव ही इनमें सबसे चर्चित नाम था।

इससे पहले 14 अगस्त को खबर सामने आई थी कि राजस्थान के डीजीपी ने नासिर और जुनैद की हत्या में मोनू मानेसर को शुरुआती जांच में आरोपी नहीं माना। राजस्थान पुलिस के डीजीपी उमेश मिश्र ने मोनू मानेसर को लेकर कहा था कि जो डायरेक्टली इन्वॉल्व हैं और जो ऑन स्पॉट अपराधी थे, उनको हमने पकड़ लिया है। लेकिन उसमें वो (मोनू मानेसर) नहीं है। इस मामले की जांच जारी है। डीजीपी उमेश मिश्र ने कहा था कि हमारी टीम केवल शुरू में ही गई थी। हम हरियाणा से मदद मांगते हैं। मुख्य मुद्दा इंटेलिजेंस का है। इंटेलिजेंस होगा तो मोनू मानेसर पकड़ा जाएगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments